Vichar Munch
कलम

कलम

चौदा साल पहले हो गयी कलम से दोस्ती । …….

टूटी फूटी अक्षरों से पक्तियाँ जुड़ गयी। …….

धीरे धीरे सुर मिल गए उन पक्तियोंको । …….

और एक सुन्दर कविता बन गयी । …….

फिर उन टूटी फूटी अक्षरों को सुधार मिल गयी । …….

और लिखते लिखते एक कहानी बन गयी । …….

अब तो कितनी कहानी कितनी कविता । …….

मेरे हाथो से लिख गयी । …….

अब तो ना ठहरेंगे हाथ लिखने के लिये । …….

जो कलम में ने उठा लियी । …….

Akshata shetve tirodkar

Add comment

Follow us

Don't be shy, get in touch. We love meeting interesting people and making new friends.