Life

वक़्त

0
Please log in or register to do it.
वक़्त को रोकना चाहते थे परंतु इस वक्त ने हमें ही इस कदर रोक दिया कि हम अपने घर में ही रहने पर मज़बूर हो गए !!!

लोग एक दूसरे से बात करने को तरस गए !!!

इस वक्त में कई माता-पिता से उनके बच्चे दूर हो गए तो कई बच्चों से उनके माता-पिता दूर हो गए !!!

आए तो थे गाँव से शहर में काम करके पैसे कमाने लेकिन आज इस वक्त के कारण जहाँ से आए थे वहीं जाने को मज़बूर हो गए !!!

वक्त ने ऐसी छड़ी मारी कि कई मज़बूर पैर अपनी मंजिल तक पहुँचने में पैदल ही चलने पर मज़बूर हो गए !!!

कुछ ही अपनी मंजिल तक पहुँचने में सफल रहे, तो कुछ बॉर्डर पर ही रोक लिए गए, तो कुछ मासूम लोगों की साँसे ही थक गईं !!!

कई मज़बूर लोग तो बिना कुछ खाए पिए अपने शरीर पर सामान लादे घंटों चलते रहे, तो कुछ थक हार कर ऐसी जगह सो गए कि मृत्यु को ही प्राप्त हो गए !!!

ऐसे मुश्किल वक्त में भी हमारे स्वास्थ्य अधिकारी, पुलिस अधिकारी और अन्य कार्यकर्ता जरूरतमंद लोगों की अपनी पूरी लगन से दिन-रात उनकी सहायता करने में अपने घर का रास्ता भूल गए !!!

हालात इस कदर हो गए कि हम दूरियाँ बढ़ाने पर मज़बूर हो गए !!!

वक्त ने ऐसी चाल चली कि हम पहले जैसी जिंदगी जीने को तरस गए !!!

Compassion and Empathy
Personalized Wishes

Reactions

0
0
0
0
0
0
Already reacted for this post.

Reactions

Your email address will not be published.